Mutual Fund में करना चाहते हैं निवेश। पहले जान लें पूरा गणित।

Mutual Fund आज के दौर की सबसे अच्छी स्कीम है, जिससे आप शेयर मार्केट में इन्वेस्ट कर लंबे समय में बहुत अच्छी रकम बना सकते।

Mutual Fund में बह लोग भी इन्वेस्ट कर सकते हैं। जिनको शेयर मार्केट का ज्ञान नहीं है, यह थोड़ा ज्ञान है। बस इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको यह नहीं दिक्कत होगी कि किस म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करना हैं, कितने प्रकार के म्यूचुअल फंड होते हैं और आपके लिए कौन सा म्यूचुअल फंड ठीक है  Post को पूरा पढ़ेंऔर अपने इन्वेस्टर्स खुद बनें।

Mutual Fund उन व्यक्तियों के लिए एक लोकप्रिय इन्वेस्टमेंट विकल्प हैं जो अपने पोर्टफोलियो को विविधता प्रदान करना चाहते हैं और संभावित रूप से लंबी अवधि में रिटर्न अर्जित करना चाहते हैं. म्यूचुअल फंड निवेश वाहन हैं जो स्टॉक, बॉन्ड या अन्य प्रतिभूतियों के विविध पोर्टफोलियो में निवेश करने के लिए कई निवेशकों से पैसा जमा करते हैं। वे पेशेवर फंड मैनेजरों द्वारा प्रबंधित किए जाते हैं जो निवेशकों की ओर से निवेश निर्णय लेते हैं।

म्यूचुअल फंड प्रतिभूतियों के विविध पोर्टफोलियो में निवेश करते हैं, जो जोखिम कम करने में मदद करता है। यह विविधीकरण किसी एक निवेश से खराब प्रदर्शन के प्रभाव को कम करने में मदद कर सकता है।

Mutual Funds के प्रकार।

Equity Funds:

Equity Funds ज्यादातर स्टॉक में इन्वेस्ट करते हैं। यह फंड स्मॉल कैप, लार्ज कैप, मिड कैप वाली कंपनियों में निवेश के लिए बने होते हैं, जिसमें टेक्नोलॉजी, हेल्थकेयर आदि कंपनियां आती है।

Bond Funds:

Bond funds फिक्स्ड-इनकम फंड के रूप में भी जाना जाता है, ये सरकारी या कॉर्पोरेट बॉन्ड में निवेश करते हैं। वे नियमित ब्याज भुगतान की पेशकश करते हैं और इक्विटी फंड की तुलना में अपेक्षाकृत कम जोखिम वाले होते हैं।

Also Read : ये हैं भारत की Top 20 कंपनी मार्केट कैप के मामले में।

Index Funds:

Index Funds इंडेक्स में निवेश करने के लिए बने होते हैं। जैसे भारत में कुछ मुख्य टैक्स निफ्टी 50, निफ्टी स्मॉल कैप, निफ्टी मिडकैप, सेंसेक्स आदि हैं ये फंड डायरेक्ट इन इंडेक्स में निवेश करते हैं, जिससे निवेशकों का रिस्क बहुत कम हो जाता है।

Sector Funds:

ये फंड अर्थव्यवस्था के विशिष्ट क्षेत्रों जैसे प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य सेवा या ऊर्जा पर ध्यान केंद्रित करते हैं। वे निवेशकों को किसी विशेष उद्योग में अपने निवेश को केंद्रित करने की अनुमति देते हैं।

Balanced Funds:

इन फंड को हाइब्रिड फंड के रूप में भी जाना जाता है। यह फंड संतुलित पोर्टफोलियों प्रदान करते हैं तथा स्टॉक बोंड और अन्य प्रतिभूतियों के मिश्रण में निवेश करते हैं, जिससे जोखिम बहुत कम हो जाता हैऔर बहुत संतुलित इन्वेस्टमेंट रहता है।

Mutual Fund में करना चाहते हैं निवेश। पहले जान लें पूरा गणित।
Mutual Fund में करना चाहते हैं निवेश। पहले जान लें पूरा गणित।

Mutual Funds में इन्वेस्ट करने का पूरा तरीका।

  1. Research : सबसे पहले आपको अपने जोखिम को देखकर फंड को तलाशना होगा।कुछ फंड्स ऐसे होते हैं जिसमें जोखिम कम होता है तथा उनका रिटर्न भी कम ही रहता हैं। मगर कुछ फंड ऐसे होते हैं जिसमें जोखिम ज्यादा होता है और आपको रिटर्न भी ज्यादा मिलता है। इसलिए अपने रिस्क के हिसाब से पहले फंड को डिसाइड करें।
  2. Open an Account: फिर आपको किसी डिस्काउंट ब्रोकर के साथ अपना डीमैट अकाउंट खुलवाना होगा, जिसके थ्रू आप म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट कर सकेंगे। भारत में बहुत सारे डिस्काउंट ब्रोकर है, जैसे Zerodha ,AngleOne, UpStock।
  3. Investment Amount : उसके बाद अपने कैपिटल के हिसाब से अपने मंथली SIP डिसाइड करें, जो आप हर महीने चुकाकर म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करने वाले हैं।
  4. Monitor and Rebalance: अपने निवेश पर नज़र रखें और समय-समय पर अपने पोर्टफोलियो की समीक्षा करें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि यह आपके लक्ष्यों के साथ संरेखित रहे। अपने वांछित परिसंपत्ति आवंटन को बनाए रखने के लिए यदि आवश्यक हो तो अपने पोर्टफोलियो को पुनर्संतुलित करें
  5. Consult a Financial Advisor: यदि आप इस बारे में अनिश्चित हैं कि किस म्यूचुअल फंड में निवेश करना है या व्यक्तिगत सलाह की आवश्यकता है, तो एक वित्तीय सलाहकार से परामर्श करने पर विचार करें जो आपकी वित्तीय स्थिति और लक्ष्यों के अनुरूप मार्गदर्शन प्रदान कर सकता है।

 

 

Leave a Comment